Home Blog Page 2

हिन्दू , हिंदुत्व और हिन्द मात्र से भी कोसों दूर हो तुम मिस्टर गांधी

0

राहुल गाँधी को अब तक जान चुके सभी लोग एक स्वर में जो बात कहते हैं वो ये कि , आज राजनीति में , सड़ केजड़ीवाल और दीदी मोमता जैसे घाघ राजनीतिज्ञों के बीच अभी भी सबसे मासूम और नीरीह , कांग्रेस के राहुल गाँधी ही हैं , हमेशा से है वही हैं और दिनों दिन वे अपने आपको और भी ज्यादा प्रमाणित कर रहे हैं।

आज जयपुर में ” महँगाई हटाओ रैली ” में भाग लेने के लिए अपनी एक बहुत ही गरीब सी लाखों की गाडी में पहुँचे और अपने सम्बोधन में उन्होंने एक पारखी अर्थशास्त्री की तरह से पूरी दुनिया को -हिन्दू और हिंदुत्व -इन दो शब्दों का अर्थ वो बताया जो असल में उन्हें समझ में आया या फिर जैसा की उन्हें समझाया गया -और उसका लब्बो लुआब ये कि -हिन्दू हो गए गाँधी जी और हिंदुत्ववादी (असल में वादी प्रतिवादी बने रहने का एक पारिवारिक चरित्र ही रहा है इनका इसलिए वादी घुस ही जाता है सब जगह ) हो गए पंडित नाथूराम गोडसे।

बहुत लहालोट होकर इन्होंने पूरे मनोयोग से उपस्थित कांग्रेसी भद्रजनों के ये समझाया और ताज्जुब ये की वे यही समझे भी -अब कांग्रेस है , कुछ भी हो सकता है।  लेकिन एक मिनट -विषय इस एकत्रीकरण करण का महँगाई था न -और संदेश में -गाँधी गोडसे के बीच आप रेस कराना चाह रहे हैं।

मिस्टर गाँधी -यहाँ सिर्फ दो दिक्क्त है , ज्यादा बड़ी भी नहीं है कि आपको उससे बचने के लिए छुट्टी पर -बतौर हिन्दू किसी तीर्थस्थल /धर्मस्थल के कल्याणार्थ ही सही दर्शनार्थ ही सही जाना पड़ जाए -वैसे मिस्टर गाँधी आप तो शायद विदेश में छुट्टियाँ मनाने वाले हिन्दू हैं एकदम क्लासी वाले हिन्दू।  जिसे आज तक किसी हिन्दू पर्व त्यौहार मनाते तो छोड़िए उसकी बधाई देते लेते नहीं देखा गया , कभी राखी ,भैया दूज ,होली न सही तिलक चन्दन , सुनिए , आपसे नहीं हो पाएगा।  असल में पूर्व प्यारे श्री मोहन जी भी गोल्ड मैडल वाले थे इकोनॉमिक्स में आपने उन्हें पोलिटिकल साइंस का मॉनिटर बना दिया वो भी म्यूट , आप के खुद के सिलेबस में , और कुछ हो न हो पोलिटिकल साईस -आउट ऑफ़ सिलेबस है , तो

तो फिर क्या जरूरत है , हिन्दू हूँ -हिंदुत्ववादी -नहीं हूँ , मतलब कुछ भी -कभी सामने बैठ के बोलिए ये सब किसी के -दो मिनट में -आपका हिंदुत्व ही पिघल के पानी पानी हो लेगा युवराज गाँधी जी।  जागिये थोड़ा , और होश में आइये , नकारात्मकता कभी भी सृजन का पर्याय नहीं हो सकती है कभी भी नहीं , ऐसे समय में जब , प्रधानमंत्री देश के बहुसंख्यक समाज यानी हिन्दू  -और वो कम से कम -आपके वाले मंच और तम्बू के नीचे बने रहने भर वाला हिन्दू नहीं है , आप नहीं समझेंगे आपसे होगा ही नहीं , उस हिन्दू समाज को उसके आदि देव महादेव की इतिहास से भी पहले बनी और जन्मी नगरी काशी को उसके दिव्य रूप में सौंपने जैसा अद्भुत अकल्पनीय क्षण देने जा रहे हैं ,ऐसे समय में

ये हिन्दू और हिंदुत्व -गाँधी और गोडसे के बीच – क्या राहुल गाँधी सच में ही आज देश में इन दो विचारधाराओं के बीच का निर्णय जैसा कुछ देखना परखना चाह रहे है ??

महंगाई हटाओ रैली में -यही , बस यही बच गया था बोलने कहने बताने को -सत्याग्रह से सत्ताग्रह -अच्छा जी , और ये कौन कह रहा है जो देश पर लगभग 60 साल तक खुद सत्ताग्रह में ही रहा हो , महँगाई -है न , जैसे हमने पहले 100 रूपए किलो टमाटर प्याज नहीं खरीदे खाए ,जैसे पहले तो खजाने भरे पड़े थे और अब अचानक ही , जब बोलने कहने को कुछ नहीं बचता तो फिर यही होता है।

बस यूँ ही , इसी तरह कुछ भी बेसिरपैर का विवादित होने की पूरी संभावना वाला बोल कह कर राजनीति को यूँ कृतार्थ करते रहिये , ये भी असल में कोई कम बड़ा उपकार नहीं है।  वैसे अब तक कितनी बार कोर्ट में माफ़ी माँग चुके हैं आप लेकिन —–मन नहीं भरता है , है न

मज़हबी कट्टरता की नफ़रत के मारे : खुद नंगे हो रहे हैं गद्दार सारे

0

मोदी सरकार के आने से , हाँ सिर्फ आने भर से ही और , दोबारा प्रचंड बहुमत से देश की सत्ता में लौटने से -भारत करवट लेकर अब नया भारत , नया हिन्दुस्तान बन रहा है। और शायद यही वजह है कि पिछले 70 सालों में ,भारत की आजादी के बाद देश में रह गए और पल बढ़ कर विष बेल बन चुकी जमात , देश विरोधी मानसिकता से ग्रस्त गुट की बौखलाहट और बेचैनी लगातार बढ़ती ही जा रही है।

पडोसी देश पाकिस्तान खेल का कोई मैच हार जाए या भारतीय फ़ौज के हाथों कोई घुसपैठिया कुत्ते की मौत मारा जाए , लालची ,द्रोहियों , बेईमानों , दलालों को घेरने के लिये सरकार कोई क़ानून बनाए या फिर लोक कल्याण में -एक देश एक क़ानून , जनसंख्या नियंत्रण क़ानून जैसी विधियों को बनाने की चर्चा भर हो जाए -कांग्रेस , वामी , और इनके साथ तमाम वो लोग जिन्हें हिन्दुस्तान की एकता , उसका संगठित रहकर दुनिया की एक बड़ी ताकत बनना बिलकुल भी नहीं भा रहा और विशेषकर इसलिए नहीं भा रहा क्यूंकि ये सब -एक हिन्दुत्वादी , एक राष्ट्रवादी पार्टी की सरकार कर रही है वो सरकार जिसे देश के बहुसंख्यक समाज ने एक नहीं दूसरी बार प्रचंड बहुमत देकर सत्तासीन किया है।

अभी हाल ही में हुई एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना में , तीनों सेनाओं के संयुक्त सेना प्रमुख श्री बिपिन रावत और उनके तमाम जाबांज साथियों की मृत्यु हो गई।  ये वो हृदयविदारक दुर्घटना थी जिसपर शत्रु राष्ट्रों और उनके फौजी अधिकारियों ने भी अपनी दुःख और संवेदना व्यक्त की।  मगर देश के गद्दार तो गद्दार ही ठहरे।  आखिर अपनी नफरत , अपनी अलगाववादी सोच को वो कैसे दबा कर रख पाते।  इसलिए देश के इस सपूत और भारत माँ के लालों के यूँ असमय चले जाने के बाद ये भी इनके लिए जश्न का मौक़ा बन गया।  ये लोग पहले भी सैनिकों की मौत ,भारत की किसी भी असफलता कठनाई को अपने लिए जलसे और जश्न का अवसर मान कर सेना ,पुलिस , कानून और सरकार को कोसने , उनका उपहास उड़ाने -अपमानित करने की प्रवृत्ति से ग्रस्त रहे हैं।

इन्हीं दोगले और गद्दार लोगों को पहचान कर उन्हें समाज में पूरी तरह से नग्न करके  इनके असली मंसूबे और मानसिकता की बाबत पूरे देश को जानना चाहिए।  देश का बहुसंख्यक समाज जो अब न सिर्फ इनके प्रति सचेत और सजग हो उठा है बल्कि अपनी तीव्र प्रतिक्रया और प्रतिरोध से अब इन्हें इनके कहे किये का माकूल जवाब दे रहा है।  जानकारी के मुताबिक़ -जनरल रावत और अन्य फौजी वीरों की शहादत का उपहास उड़ाने वाले , अपमानित करने वालों में से सैकड़ों के विरूद्ध शिकायतें दर्ज़ हुई हैं , दर्जनों गिरफ्तार करके जेल भेजे जा चुके हैं और कईयों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा है।

केन्द्र की मोदी सरकार ने पिछले 7 वर्षों में ये अच्छी तरह से देख समझ लिया है कि , देश के लिए बाहरी दुश्मनों से निपटने से कहीं अधिक जरूरी इन आस्तीन के साँपों का माकूल इलाज ढूँढना भी है।  यही कारण है कि सरकार जल्द से जल्द अपने प्रस्तावित कानूनों को लागू करने की तैयारी कर रही है -ताकि बचे खुचे गद्दार और देशद्रोही चरित्र वाली ये जमात खुल कर अपने अलसी रंग में आए और साथ ही वो भी जो इन्हें वोट बैंक मान कर , सात  दशकों से तुष्टिकरण और चाटुकारिता की राजनीति करके सत्ता पर बैठते आए थे -उनकी भी बची खुची असलियत लोगों के सामने आ जाए।

सुशासन वाली नीतीश सरकार : चवन्नी ,अठन्नी , रुपैया -दारू है तैयार

0

बिहार में नीतीश बाबू की सुशासन वाली सरकार , धड़ाधड़ चल रही है और फिर क्यों न चले।  आज के समय में भला ऐसा फैसला , इतना दृढ़ निर्णय -नशाखोरी को बंद करने , ख़त्म करने के लिए पूरे प्रदेश में -शराबबंदी का फैसला।  ज्ञात हो कि , किसी भी राज्य सरकार को -शराब की बिक्री से -एक्साईज़ एक्ट के तहत -अथाह धनराशि कर के रूप में मिलती है जिसे कोई भी राज्य सरकार छोड़ना नहीं  चाहती।  लेकिन गुजरात और बिहार जैसी राज्य सरकारें , जनभावना का सम्मान करते हुए  , उन्हें सुरक्षित -ससंरक्षित करने की सुनिश्चितता तय करने के लिए -शराबबंदी का फैसला ले चुकी हैं।

लेकिन ये -सिर्फ एक पहलू है। दूसरे राज्यों का तो पता नहीं लेकिन बिहार में शराबबंदी सिर्फ एक कागज़ी आदेश भर बन कर रह गया है । पटना ,मुज्जफरपुर , दरभंगा ,मधुबनी जैसे शहरी क्षेत्रों से लेकर सीमांत सुदूर ग्रामीण अंचल तक ,सभी स्थानों पर कहीं चोरी छिपे तो कहीं खुलेआम शराब बनाई ,खरीदी और बेची जा रही है , पड़ोसी राज्यों और पड़ोसी देश नेपाल तक से तस्करी करके भारी मात्रा में शराब बिहार के सारे क्षेत्रों में पहुँचाई जा रही है ।

इस शराबबंदी के ढकोसले की पोल , लगभग हर सप्ताह उन तमाम घटनाओं और अपराधों से खुलती रहती है जिनकी खबरें विभिन्न समाचार माध्यमों में आए दिन छपती और दिखती हैं । कभी बिहार आने जाने वाली रेल की रसोईयान में बरामद होती अवैध शराब की खेप तो कभी प्रदेश के किसी सरकारी दफ्तर से ही लाखों रुपए की अवैध शराब का पकड़ा जाना । ये सब ,अब सामान्य बात हो गई है ।

ग्रामीण क्षेत्रों में पड़ताल से पता चला है कि ,दुकानों ठेकों की तालाबंदी से शराब की खरीद बिक्री पर सिर्फ ये फर्क पड़ा है कि अब इनकी होम डिलवरी करवाई जा रही है । चवन्नी , अठन्नी और रुपया – इस कोड वर्ड के सहारे , पव्वा ,अद्धा और पूरी बोतल खरीदने मंगवाने का ऑर्डर फोन , व्हाट्सएप द्वारा दिया जाता है और सिर्फ थोड़े से पैसों के लालच के लिए , क्षेत्र के युवा और बेरोजगार आसानी से नशे के इस जाल में फँसते चले जा रहे हैं ।

सबसे बड़ी विडंबना यह है कि , प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी की घोषणा के बावजूद आए दिन , बिहार में जहरीली शराब बनाए जाने ,और पीए जाने से सैकड़ों लोगों के मरने , बीमार पड़ने की ये खबरें अब साधारण और सामान्य सी घटना है । इन सब पर न तो राज्य प्रशासन , न ही सम्बंधित विभाग और न ही पुलिस की किसी बड़ी कार्रवाई की जानकारी सामने आती है । थोड़ी बहुत जाँच करने कराने की खानापूर्ति – इसके बाद फिर वही शराब और शराब ।।

तीसरी बार राज्य में सत्ता पर बैठे नीतीश कुमार न तो राज्य की शासन व्यवस्था को संभालने दुरुस्त करने में कोई रुचि दिखा रहे हैं और न ही अपराध , नशे और बेरोजगारी जैसी समस्याओं से निपटने के लिए कोई कदम उठा रहे हैं । यही बिहार की सबसे बड़ी त्रासदी है कि  उसकी किस्मत में चाहे अनपढ़ नेतृत्वकर्ता मिलें हों या पढ़े लिखे इंजीनियर मुख्यमंत्री – राज्य की दुर्दशा वैसी ही बनी रही ।।

कश्मीरी पंडितों को जम्मू कश्मीर छोड़ने की धमकी : “लश्कर ए इस्लाम “ने चिपकाए पोस्टर

0

जम्मू कश्मीर में फिर से 90 के दशक वाले हालात की वापसी चाहने वाले आतंकी गुटों ने अपनी हरकत फिर शुरू कर दी है।  पिछले एक सप्ताह में गरीब , निरपराध हिन्दुओं का नाम और धर्म पूछ कर कश्मीर में दसियों लोगों को क़त्ल किया जा चुका है।  हालाँकि सेना और सुरक्षा बल भी अपनी तरफ से इनका सफाया करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है और इन आतंकयों को होने बिलों से निकाल निकाल कर मार रही है।  लेकिन ये आतंकी नए नए संगठनों के नाम से  घाटी में डर का माहौल पैदा करने की कोशिश में लगे हुए हैं। अभी हाल ही में , लश्कर ए इस्लाम नाम के नए नए बने आतंकी संगठन ने घाटी में पोस्टर चिपका कर स्थानीय हिन्दुओं और कश्मीरी पंडितों को घाटी छोड़ देने और नहीं छोड़ कर जाने की सूरत में उन्हें मार दिए जाने की चेतावनी देते हुए पोस्टर चस्पा कर दिए हैं।  
घाटी में लगाए गए धमकी भरे इन पोस्टर में लिखा गया है कि आरएसएस एजेंट , सरकार को खुफिया सूचना देने वाले मुखबिर और तमाम हिन्दू तथा कश्मीरी पंडित , घाटी को छोड़कर चले जाएं अन्यथा वे अपनी जान से हाथ धो बैठेंगे।  असल में सरकार द्वारा 370 की समाप्ति और इसके बाद सेना द्वारा चलाए गए सफाई अभियान में घाटी से सारे आतंकियों का सफाया करने जैसे कदमों से घाटी के चरमपंथी और उनके पाकिस्तानी आका बुरी तरह से झल्लाए हुए थे।  ऐसे में अफगानिस्तान में तालिबान की वापसी ने एक बार फिर से इस क्षेत्र में पाकिस्तान की सरपरस्ती में आतंक को बढ़ावा देने के मंसूबे पर काम शुरू हो गया है।
हालांकि पुलिस ने इस घटना पर पूरी जानकारी देते हुए बताया है कि , कुछ शरारती तत्वों द्वारा जानबूझ कर घाटी में डर और दहशत का माहौल पैदा कर हिन्दू आबादी को डराने धमकाने के उद्देश्य से किसी अज्ञात आतंकी गुट के नाम पर ये पोस्टर घाटी में चिपकाए गए हैं जिसकी जाँच पुलिस व् स्थानीय जांच एजेंसियाँ कर रही हैं।

10 वर्ष की बहन थी मंदबुद्धि तो भाई मुहम्मद ने अपने 4 दोस्तों के साथ गैंगरेप करके मार डाला

0

इंसानियत को भी बुरी तरह शर्मसार करने वाली ये घटना राजस्थान के जयपुर क्षेत्र की है जिसकी कल्पना करके भी मन सिहर उठता है .

दस साल की अबोध बच्ची और वो भी मानसिक रूप से दिव्यांग , उसका कसूर सिर्फ इतना था कि , वो हैवानों के यहां पैदा हो गई . इस मासूम के अपने सगे भाई मुहम्मद ने अपने चार और मुहम्मद दोस्तों के साथ मिलकर इस बच्ची का सामूहिक बलात्कार किया और फिर उसका कत्ल कर दिया . 

ये अपराध , राजस्थान का है जहां कांग्रेस की सरकार है मगर अफसोस है कि कांग्रेस की दोनों महत्वपूर्ण नेता सोनिया और प्रियंका फिलहाल उत्तर प्रदेश चुनाव के कारण लड़की हूँ लड़ सकती हूँ , लड़की हूँ खेल सकती हूँ पर ही अटकी हुई हैं . 

मुगलों की हवस का तो कहना ही क्या , उनके लिए तो बस एक मादा शरीर होता है जिसे नोंचा खसोटा और जब जैसे मन किया उसे मार काट कर फेंक दिया . लानत है इनपर

करवाचौथ व्रत का अपमान : डाबर ने दिखाया समलैंगिक जोड़ा : ट्विटर पर भी चलाया जा रहा है Hate Campaign

0

ऐसा लग रहा है जैसे सनातनी हिन्दू पर्व त्यौहारों पर उत्पाद कंपनियों द्वारा एक निश्चित एजेंडे के तहत जानबूझ कर इन्हें विवादित करने की होड़ सी लगी हुई है . एक मामला सामने आता है , लोग विरोध करते हैं और कंपनी और उसके लोग माफी मांगते हैं . अभी मामला शान्त भी नहीं होता इतने में दूसरा ऐसा ही मामला सामने आ जाता है .

डाबर कंपनी ने अपने नए विज्ञापन में करवाचौथ पर्व के रीति रिवाजों का फिल्माकंन करते हुए एक जोड़े को दिखाया हुआ है , लेकिन रुकिए जोड़ा पति पत्नी का ही मगर समलैंगिक है . यानि दो महिलाएं आपस में एक युगल दंपत्ति की तरह अपनी माँ या सास के साथ करवाचौथ की परंपरा को निभा रही हैं . 

कमाल की सोच है इस विज्ञापन बनाने वालों की , एक तरफ तो समलैंगिकता जैसी प्रवृत्ति जिसे भारतीय समाज में अभी व्यापकता और मान्यता नहीं मिली है यदि दो युवतियों ने इस विकल्प को चुना भी है तो फिर वे करवाचौथ जैसा पारंपरिक त्यौहार क्यों मना रही हैं ??

कमपनी की तो जो लानत मलामत हो ही रही है लेकिन इधर कुछ लोग जाने किस एजेंडे से प्रेरित होकर , हर हिन्दू पर्व त्यौहार को बदनाम करने के लिए उसमें झूठ और भ्रम का मसाला लगा कर उसे गलत तरीके से दुनिया के सामने रखने का प्रयास भी कर रहे हैं .

इसके लिए टिव्वर पर बाकयदा ट्रेंड चलाकर #truthofkarwachauth हैश टैग के साथ एक घृणा मुहिम चलाई जा रही और जोर शोर से इसे आगे बढ़ाया जा रहा है . देखिए कैसे इसमें करवाचौथ के बारे में उल्टा सीधा बोला लिखा जा रहा है . जो महिलाएं करवाचौथ का व्रत रखती हैं वे अगले जन्म में गधी बनेंगी . 

बाबा रामपाल नामक एक छद्मवेशी और उसके चेलों चपाटों द्वारा हर बार हिन्दू पर्व के समय इस तरह के अपमानजनक हैश टैग के साथ एक घृणा मुहिम चला कर पर्व त्यौहार मनाने वालों को कोसा जाता है और अपशब्द कहे जाते हैं .

हद तो ये है किया} ये है कि ये सब न तो सरकार और उनकी नियामक संस्थाओं को दिखता है और रात दिन अपनी चौकिदारी से लोगों के अकाउंट सस्पेंड और डिलीट करने वाले ट्विट्टर की टीम को . ये बहुत ही निंदनीय और चिंताजनक बात है .

कोई भी सभ्य समाज कभी भी किसी को , अपनी सभ्यता , संस्कृति ,परपम्परों का उपहास नहीं उड़ाता , उसका अपमान नहीँ करता बल्कि उसमें शामिल होकर उसे संरक्षित और संवर्धित करता है . अफसोस कि आज जब दुनिया में बहुत सारे लोग मज़हबी उन्माद में पूरी दुनिया को एक ही रंग में रँगने को उद्धत हैं तो ऐसे में एक भारत और भारतीय हैं जो अपने बचे हुए को भी नहीं बचा पा रहे हैं . 

तमिलनाडु सरकार ने अब तक मंदिरों को दान में मिला 5 लाख किलो सोना बेचा : दान के आकलन विश्लेषण करने वाली समिति में मुस्लिम भी शामिल

0

अभी विजयादशमी पर अपने उद्बोधन में जब राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने सरकारों पर सीधा सीधा आरोप लगाते हुए कहा था की , सरकारों द्वारा मंदिर और मंदिर की संपत्ति से जुड़ी आय को किसी न किसी बहाने से अपने नियंत्रण में लेने की प्रव्रुत्ति ठीक नहीं है और सरकारों को चाहिए कि वे मंदिर और मठों का सारा धन ,संपत्ति जल्द से जल्द वापस कर दें। 

उस समय शायद ही किसी को अंदाजा होगा कि वास्तविकता का अनुमान सिर्फ एक इस तथ्य से ही लगाया जा सकता है कि , अकेले एक तमिलनाडु की राज्य सरकार ने अदालत में शपथ पत्र दाखिल करके जानकारी दी है कि , राज्य सरकार अब तक ,  तमिलनाडु के मंदिरों में दान के रूप में दिए गए एक दो नहीं पूरे 5 लाख किलो सोना और जेवरात को पिघला कर उसका उपयोग कर चुकी है। और सरकार इतने पर ही नहीं रुकी है बल्कि , अब भी ये प्रक्रिया बदस्तूर जारी है और मंदिरों को दान में मिला धन सोना जेवरात आदि को ठिकाने लगाने का काम किया जा रहा है।  

ज्ञात हो कि , सरकार ने मंदिरों को दान में प्राप्त सोने को गला कर विभिन्न बैंकों में रखने की अनुमति हेतु दायर याचिका में ये जानकारियां अदालत को दी हैं।  इसी याचिका की सुनवाई के तहत दिए गए निर्देशों के अनुपालन में , तीन न्यायाधीशों की एक समिति , मंदिरो के सोने को गलाने और उसे बैंकों में जमा करवाने का सारा कार्य देख रही है 

भाजपा ने इसका विरोध करते हुए , सरकार की नीयत पर सवाल पर सवाल उठाते हुए सरकार के इस कदम को हिन्दुओं विरुद्ध बताया है । उन्होंने पूछा है कि ,मंदिर की धन , संपत्ति का निर्धारण , उपयोग , भंडारण और निष्पादन का अधिकार मंदिर को  , मंदिर समिति को या उनके प्रतिनिधियों को ही क्यों नहीं है । और ये किसके निर्णय से फैसला लिया गया कि ,क्या कैसे होगा ???

सरकार ने अपना पक्ष अदालत में रखते हुए कहा कि ये प्रचलन बहुत पहले से चला आ रहा है और एक आकलन के मुताबिक तमिलनाडु सरकार अब तक मंदिरों का 5 लाख किलो सोना जेवर गला चुकी है । सरकार के अनुसार इस धन का उपयोग अन्य मंदिरों के जीर्णोद्धार व पुनर्निमाण में लगाया जाएगा । 
तमिलनाडु में 36 ,400 मंदिर हैं जिन्हें सरकारी नियंत्रण में लिया जा चुका है और इनमें चढ़ाए गए सारे दान , धन , जेवरात का आकलन निर्धारण सरकार ही करती आई है । 

सरकार इतने पर ही नहीं रुकी बल्कि , मंदिरों के चढ़ावे में मील सारे सोने का मूल्यन , गलन आदि करने वालों में कुछ मुस्लिमों को भी शामिल किया गया है जो हिंदुओं की नाराजगी और बढ़ा रहा है । 

 

मुझे हिन्दू होने पर शर्म आती है : स्वरा भास्कर

0

अभिनेत्री स्वरा भास्कर , जानबूझकर , खुद को लाईमलाईट में लाने के लिए गाहे बेगाहे ,कुछ न कुछ उल जलूल बयान ऐसा जरूर दे देती हैं ताकि फिर राष्ट्रवादी उन्हें निशाने पर लेकर सही जवाब देते हुए घंटों तक ट्रोल करते रहें।

यदि मामला हिन्दू , भारत , भाजपा , सेना , पुलिस विरोधी हो फिर स्वरा के लिए ये अवसर सोने पर सुगंध जैसा होता है।  ऐसा ही अभी हाल में हुआ जब अचानक ही स्वरा ने अपने ट्विटर हैंडल पर जाकर लिखा कि उन्हें अपने हिन्दू होने पर शर्म आती है।

असल में स्वरा ने ये बात उस खबर पर प्रतिक्रया देते हुए कही /लिखी जिसमें इन दिनों गुड़गाँव में खुले में पढ़ी जा  रही नमाज का विरोध करने के लिए हिन्दुओं द्वारा जय हिन्द और भारत माता की जय के नारे लगाने का वीडियो साझा किया गया है।  ज्ञात हो कि पिछले काफी दिनों से गुड़गांव के निवासी , खुले में नमाज का विरोध करने के लिए एकत्र हो रहे हैं और पुलिस सारा मामला सुलझाने में लगी हुई है 

स्वरा की रग रग से वाकिफ , सोशल मीडिया यूजर्स ने स्वरा को खरी खोटी सुनाई बल्कि मशहूर फिल्म निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने भी स्वरा को आड़े हाथों लेते हुए इसे नौटंकी करार दिया और सिर्फ लोगों का ध्यान आकर्षित करने के लिए की गई बयानबाजी करार दिया।

इससे पहले भी स्वरा समय समय पर कभी सेना के खिलाफ तो कभी पुलिस के खिलाफ और अक्सर ही हिन्दुओं और सनातन के विरुद्ध इसी तरह से अपने ओछे और घटिया विचारों का वमन करती रही है और इसका माकूल जवाब भी उन्हें वहीं मिलता रहा है

लड़की हूँ लड़ सकती हूँ -कांग्रेसी हूँ ,सिर्फ लड़ सकती हूँ

0

आख़िरकार प्रियंका दीदी भी मैदान में उतर ही आईं वो भी झाड़ू पोछा कैमरा मोबाईल और राहुल गाँधी ,सभी अस्त्र शस्त्रों से लैस होकर।  और इस बार उन्होंने घोषणा पर घोषणा कर दी।  पहली तो यही कि -देखो जब हम सारी सीटों पर सारे राज्यों में हार ही रहे हैं तो इस बार हम चालीस प्रतिशत सीट अपनी बहन दीदी माताओं को हारने के लिए कुर्बान कर देंगे।

महिला सशक्तिकरण की ये अलख इतने पर ही नहीं रुकी बल्कि ट्विट्टर पर बाकयदा ट्रेंड चलाकर (#लड़की_हूँ_लड़_सकती_हूँ ) मिसेज वढेरा ने मानो यलगार हो कह दिया हो।  अब ऐसे में यकायक ही जब सबको पीछे करते हुए प्रियंका दीदी ने कांग्रेस की सारी फुटेज खा ली तो राहुल गाँधी भी  असमंजस से बाहर आकर कहना चाह रहे हैं ,लड़का हूँ तो क्या ,मैं नहीं लड़ सकता क्या ??

अब ये तो दीदी गाँधी ही भैया गाँधी को बता समझा सकती हैं कि उनको अचानक ये कहने की नौबत क्यों आ गई कि लड़की हूँ लड़ सकती हूँ -जबकि वे चाहें तो ये बिना कहे भी लड़ सकती थीं या फिर ये भी कि वढेराइन हूँ लड़ सकती हूँ और कुछ न सही तो ये तो पक्का ही कि कांग्रेसी हूँ – सिर्फ लड़ ही सकती हूँ।

राहुल दूसरी बात ये भी नहीं समझ पा रहे हैं कि आखिर दीदी गाँधी ने आम आदमी पार्टी का चुनाव चिन्ह झाड़ू को क्यों अपने साथ फुटेज देनी शुरू कर दी है।  वे जहां भी मोबाइल कैमरे देखती हैं या तो मुझे जाने नहीं दे रहे , रोक रहे हैं कहने लगती हैं या फिर फौरन ही झाड़ू उठा कर साफ़ कमरे , जगह को बुहारने लगती हैं और साथ ही कहती जाती हैं -लड़की हूँ लड़ सकती हूँ।

उधर पार्टी वाले भी कह रहे हैं कि अगर दीदी भैया लड़की लड़का होने की बात पर ही लड़ सकते हैं तो हमारे पास तो फिर भी सर फुटौव्वल के लिए बहुत सारे मसाले हैं।  यही सोच कर सिद्धू कैप्टन , पायलय गहलोत आदि सब भी आपस में ही लड़ भिड़ कर पार्टी लाइन पर बने रहते हैं।

लड़ेगा इंडिया तभी तो सब पर भारी पड़ेगा इंडिया।