राष्ट्रवादी विचारों की उबलती केतली : क्रेटली (Kreately)-शब्दों का जयघोष

राष्ट्रवादी विचारों की उबलती केतली : क्रेटली (Kreately)-शब्दों का जयघोष

पिछले कुछ समय में ही आप सब पाठक जिस तरह से क्रेटली पर लिखी जा रही पोस्टों को पढ़ा ,पसंद किया और साथी मित्रों के साथ साझा किया उसने इस बात को सिद्ध किया कि जिस उद्देश्य को लेकर एक सशक्त , तेज़ , व्यापक प्रसार वाले और सबसे अधिक प्रखर राष्ट्रवादी विचारों को जस का तस स्थान देने वाले एक वेब पोर्टल/साइट की जरूरत काफी समय से पाठक महसूस की जा रही थी उसे पूरा करने के लिए -क्रेटली सामने है |

जानिये कि खुद क्रेटली का अपने विषय में क्या कहना है :-

हम कौन हैं?

हम नूतन एवं कालातीत का एक अभूतपूर्व मिश्रण हैं। हम अपनी पाश्चात्य तर्क-वितर्क की परंपरा को परिपुष्ट रखना चाहते हैं। हम विविध व्यवसायों से हो सकते हैं, पर अपनी संस्कृति की रक्षा,प्रवर्तन, एवं कृतार्थ हेतु हमारा लगन और उत्साह हमें एकजुट रखता है। हम एक ऐसे प्रपंच में कदम रख रहें हैं जहां पुराने नियम प्रसंगगिक नहीं रहे। ‘हम’ आपके विचारों के प्रतिबिंब हैं, हम आपकी अभिव्यक्ति के स्वर हैं, और हम आपको निमंत्रित करते हैं,आपका अपना मंच ‘क्रिएट्ली’ पर, सारे संसार तक अपना निनाद पहुंचायें!
इसे वीडियो के माध्यम से ऐसे समझिये फिर

आप लिखते हैं , पढ़ते हैं , राष्ट्रवादी हैं , देश से प्यार करते हैं , कुछ बताना ,पूछना , कहना ,दिखाना ,समझाना चाह रहे हैं , आप ब्लॉगर हैं , लेखक हैं ,पत्रकार हैं , व्यवसायी हैं नौकरीपेशा हैं , विद्यार्थी ,शिक्षक ,राजनेता कोई भी हैं या कोई नहीं भी हैं -तो भी , हाँ तब भी ये मंच आपके हमारे सबके लिए एक साझा संस्कृति जैसा है |

वर्तमान में अंग्रेजी ,हिंदी , तमिल ,तेलगु , कन्नड़ ,मलयालम भाषाओं में लिखी पढ़ी जा रही खूबसूरत पोस्टों के इस नायाब कोने को आप अपनी भाषा में भी सजा संवार सकते हैं | यानी भाषा की भी कोई बाध्यता या बंदिश न होकर व्यापक संभावनाओं से युक्त है

ताज़ा पोस्ट

देश छोड़ कर सालों पहले भाग गए अंग्रेज : हाय री किस्मत अब आ गए तैमूर और चंगेज़

विश्व की कुछ सबसे जरूरी महत्वर्पूण खगोलीय घटनाओं में से एक पिछले दिनों घटी जिसकी प्रतीक्षा कम से कम , खुद को नौटंकी बना...

तेल देखो और तेल की धार देखो

पेट्रोल 100 रुपए पार चला गया और ये कयामत से भी ज्यादा भयानक बात है . वो भी उस देश में जो कई बार...

कौआ उड़ , तोता उड़ : संसद में खेलता एक कबूतर बाज

संसद में हमेशा अपने अलग अलग करतबों से दुनिया को अपनी काबलियत का परिचय देने वाला गाँधी परिवार और कांग्रेस की सल्तनत के आखिरी...

आंदोलन के नाम पर अराजकता और हठधर्मिता : आखिर कब तक

चलिए ,सड़क ,शहर , लालकिले के बाद अब रेल की पटरियों पर आन्दोलनजीवी खेती किए जाने की मुनादी की गई है। संगठनों ने मिल...

हमरा भेलकम काहे नहीं हुआ जी : ई इंस्लट नहीं न चलेगा हो

लालू जी बब्बा तनिक बीमार क्या हुए , तेजस्वी भैया बस इत्तु से मार्जिन से चीप मुनिस्टर बनते बनते क्या रह गए , मने...

यह भी पसंद आयेंगे आपको -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ई-मेल के जरिये जुड़िये हमसे