चिट्ठा चर्चा दोबारा शुरू – हिंदी ब्लॉगिंग को दोबारा लौटाने का एक प्रयास

Chittha charcha fir se shuru - hindi blogging dobara lautane ka prayasजैसे जैसे ब्लॉगिंग की तरफ लौट रहा हूँ तो देख रहा हूँ कि हिंदी ब्लॉगिंग का प्रवाह सच में ही बहुत कम हो गया है | हालत ये है की पूरे दिन में यदि पचास पोस्टें भी नज़रों के सामने से गुज़र रही हैं तो उसमें से दस तो वही पोस्टें हैं जो इन पोस्टों के लिंक्स लगा रही हैं |

टिप्पणियों का हाल तो और भी खस्ता है | अधिकाँश पोस्टों पर सिर्फ यही देखने पढ़ने को मिल रहा है की आपकी पोस्ट का लिंक फलाना ढिमकाना में लगाया गया है आकर जरूर देखें | जबकि पोस्टों को चुनने सहेजने वाले ब्लॉगर मित्र खुद अपनी राय तक नहीं दे रहे हैं वहां |

समाचारों को ब्लॉग पोस्ट में चस्पा करके लगातार जाने कितनी ही पोस्टों का प्रकाशन किया जा रहा है | विषयवार सामग्री तलाशने वालों के लिए ये निश्चित रूप से निराश करने वाली बात है | सभी ब्लॉगर मित्र एक साथ धीरे धीरे ही सही प्रयास शुरू करें तो ये महत्वपूर्ण विधा फिर से अपनी रफ़्तार पकड़ लेगी मुझे पूरा यकीन है |

अपने स्तम्भ ब्लॉग बातें के लिए मुझे एक विषय पर गिन कर दस पोस्टें भी पढ़ने को नहीं मिलीं | फिलहाल मैं अपने इसी ब्लॉग झा जी कहिन पर चिट्ठा चर्चा (सिर्फ पोस्टों के लिंक्स नहीं ) शुरू करने जा रहा हूँ | जहाँ पोस्टों को पढ़ कर उनका विश्लेषण व चर्चा करूँगा , एक पाठक के रूप में एक ब्लॉगर के रूप में भी और ये काम बहुत जल्द शुरू करूंगा

आप तमाम मित्र मुझे अपने ब्लॉग के लिंक अपनी पोस्ट के लिंक और ब्लॉग से सम्बंधित कुछ भी मेरे मेल में ,मेरे फेसबुक पर ट्विट्टर कहीं भी थमा सुझा सकते हैं | इस विधा को दोबारा से अपनी रवानी में लाने के लिए निरंतर किए जाने वाले इस प्रयास में मुझे आप सबका साथ चाहिए होगा , आप देंगे न साथ मेरा

  • ajaykumarjha1973@gmail.com
  • twitter.com/ajaykumarjha197
  • https://www.facebook.com/ajaykumarjha1973

ताज़ा पोस्ट

Corona vs Domestic Herbs

Since last many days I am receiving many comments regarding the availability of hydroxychloroquine ,the medicine recently was in news for treating people the...

मुकदमों के निपटान में नहीं होगी देरी

 देश के अन्य सरकारी संस्थानों की तरह ही देश की सारी विधिक संस्थाएं ,अदालत , अधिकरण आदि भी इस वक्त थम सी गई हैं। ...

क्रिकेट -यादें और हम

  #येउनदिनोंकीबातथीएक पोस्ट पर अनुज देवचन्द्र ने टिप्पणी करते हुए ये कह कर कि आपकी क्रिकेट में फिरकी वाली गेंदबाजी की याद अब भी कभी...

साढ़े सात साल के भाई साहब

  "भाई साहब मुझे भी " मंदिर की कतार में खडे उस शख्स ने, जो यूं तो एकटक मंदिर के प्रवेश द्वार के पीछे भगवान की...

क्यों ठीक है न ???

 वो संसद पर ,मुंबई ,दिल्ली और जाने कितने शहरों में आतंक और मौत का नंगा नाच करते रहे ; तुमने कहा सब थोड़ी हैं उनमें...

यह भी पसंद आयेंगे आपको -

13 COMMENTS

  1. you’re actually a just right webmaster. The web site loading velocity is incredible.
    It sort of feels that you are doing any distinctive trick.
    Also, The contents are masterpiece. you have done a great process on this subject!

  2. Pretty element of content. I simply stumbled upon your weblog and in accession capital to say that I acquire actually loved account your weblog posts.
    Anyway I will be subscribing to your feeds and even I achievement
    you get right of entry to consistently fast.

  3. Thank you for the good writeup. It in fact was a amusement account it.
    Look advanced to far added agreeable from you! By
    the way, how can we communicate?

  4. I like the helpful info you provide on your articles.

    I will bookmark your weblog and take a look at once more here frequently.
    I’m moderately sure I will be told many new stuff right right here!

    Good luck for the next!

  5. Greetings I am so thrilled I found your web site, I really found you by error,
    while I was researching on Askjeeve for something else,
    Nonetheless I am here now and would just like to say thanks for a tremendous post and a
    all round enjoyable blog (I also love the theme/design),
    I don’t have time to read it all at the minute but
    I have bookmarked it and also included your RSS feeds, so when I
    have time I will be back to read much more, Please do keep up
    the great work.

  6. Somebody necessarily lend a hand to make significantly articles I
    would state. This is the first time I frequented your
    web page and so far? I surprised with the research you made to make this particular publish incredible.

    Fantastic task!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ई-मेल के जरिये जुड़िये हमसे