कविता – वो सब बता गया

wo-sab-bata-gaya-kavita एक ही निगाह में ,वो सब बता गया
दर्द का पूछा तो ,मज़हब बता गया

अंदाज़ा मुझे भी इंकार का ही था
यक़ीन हुआ नाम गलत जब बता गया

हाथ मिलाया तो नज़रें जेब पर थीं
यार मिलने का यूं सबब बता गया

लूटता रहा गरीबों को ताउम्र जो
पूछने पर ख़ुद को साहब बता गया

वादे कमाल के किये उसने ,मुकरा तो
कभी उन्हें अदा ,कभी करतब बता गया

बता देता राज़ तो तमाशा ही न होता
खेल ख़त्म हुआ ,वो तब बता गया

ताज़ा पोस्ट

कश्मीरी पंडितों को जम्मू कश्मीर छोड़ने की धमकी : “लश्कर ए इस्लाम “ने चिपकाए पोस्टर

जम्मू कश्मीर में फिर से 90 के दशक वाले हालात की वापसी चाहने वाले आतंकी गुटों ने अपनी हरकत फिर शुरू कर दी है। ...

10 वर्ष की बहन थी मंदबुद्धि तो भाई मुहम्मद ने अपने 4 दोस्तों के साथ गैंगरेप करके मार डाला

इंसानियत को भी बुरी तरह शर्मसार करने वाली ये घटना राजस्थान के जयपुर क्षेत्र की है जिसकी कल्पना करके भी मन सिहर उठता है...

करवाचौथ व्रत का अपमान : डाबर ने दिखाया समलैंगिक जोड़ा : ट्विटर पर भी चलाया जा रहा है Hate Campaign

ऐसा लग रहा है जैसे सनातनी हिन्दू पर्व त्यौहारों पर उत्पाद कंपनियों द्वारा एक निश्चित एजेंडे के तहत जानबूझ कर इन्हें विवादित करने की...

तमिलनाडु सरकार ने अब तक मंदिरों को दान में मिला 5 लाख किलो सोना बेचा : दान के आकलन विश्लेषण करने वाली समिति में...

अभी विजयादशमी पर अपने उद्बोधन में जब राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने सरकारों पर सीधा सीधा आरोप लगाते हुए...

यह भी पसंद आयेंगे आपको -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ई-मेल के जरिये जुड़िये हमसे