कविता – वो सब बता गया

wo-sab-bata-gaya-kavitaएक ही निगाह में ,वो सब बता गया
दर्द का पूछा तो ,मज़हब बता गया

अंदाज़ा मुझे भी इंकार का ही था
यक़ीन हुआ नाम गलत जब बता गया

हाथ मिलाया तो नज़रें जेब पर थीं
यार मिलने का यूं सबब बता गया

लूटता रहा गरीबों को ताउम्र जो
पूछने पर ख़ुद को साहब बता गया

वादे कमाल के किये उसने ,मुकरा तो
कभी उन्हें अदा ,कभी करतब बता गया

बता देता राज़ तो तमाशा ही न होता
खेल ख़त्म हुआ ,वो तब बता गया

ताज़ा पोस्ट

वैकल्पिक विधिक उपचार बनाम न्यायिक व्यवस्था

 देश की तमाम संचालक व्यस्थाओं में आज किसी भी प्रकार से जो व्यवस्था अंततः केंद्र में आ ही जाती है वो है देश की...

भीड़तंत्र बनता हुआ लोकतंत्र

 किसी भी लोकतांत्रिक देश सरकार और असमाज में सहमति व सामांजस्य का हुआ जितना जरूरी है उतना ही आवशयक प्रतिरोध ,आलोचना और प्रश्न उठाने...

सरकार की प्रतिबद्धता और प्रस्तावित कानून

 आरक्षण  की नीति लागू करने के विरूद्ध हुए जनांदोलन के काफी समय बाद एक बार फिर किसी प्रस्तावित कानून के मसौदे को विषय बना...

10 quotes of love and life

  https://youtu.be/P9HMo_BBWwY

यह भी पसंद आयेंगे आपको -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ई-मेल के जरिये जुड़िये हमसे