कविता – वो सब बता गया

wo-sab-bata-gaya-kavitaएक ही निगाह में ,वो सब बता गया
दर्द का पूछा तो ,मज़हब बता गया

अंदाज़ा मुझे भी इंकार का ही था
यक़ीन हुआ नाम गलत जब बता गया

हाथ मिलाया तो नज़रें जेब पर थीं
यार मिलने का यूं सबब बता गया

लूटता रहा गरीबों को ताउम्र जो
पूछने पर ख़ुद को साहब बता गया

वादे कमाल के किये उसने ,मुकरा तो
कभी उन्हें अदा ,कभी करतब बता गया

बता देता राज़ तो तमाशा ही न होता
खेल ख़त्म हुआ ,वो तब बता गया

ताज़ा पोस्ट

केरल और पश्चिम बंगाल :तैयार होते दो इस्लामिक राज्य

किसी ने बहुत पहले ही कहा था कि ,'देश को नहीं है ख़तरा उतना ,विदेशी हथियारों से देश को है असली खतरा तो देश के...

हिंदी हैं हम -हिंदी ,हिन्दू ,हिन्दुस्तानी

अंग्रेजीमय दिल्ली की अदालत में ,यूँ तो मैं अपने काम , जुनून और सबसे अधिक अपने बेबाक तेवर कारण (ठेठ बिहारी , सबपे भारी...

चुलबुल विलेन छेदी सिंह हीरो : सोनू सूद असली दबंग

जैसा कि पहले से जग जाहिर था और लोगों को भी अब धीरे धीरे खूब समझ आ चुका है हिंदी सिनेमा में पूरे षड्यंत्र...

तीन से ज्यादा बच्चे तो सीधा जेल : जनसंख्या नियंत्रण कानून

बार बार पूरे विश्व की बहुत सारी संस्थाएं और समूह इस बात को उठाते रहे हैं कि यदि दुनिया की आबादी इसी तरह बेहिसाब...

बड़ा पप्पू to छोटा पप्पू

मेरे प्यारे पप्पू ,खुश रहो | आज तुमने मेरे लिए जो भी लिखा/लिखवाया वो मैसेज मुझ तक पहुँच गया | यूँ तो मैं तुम्हारे...

यह भी पसंद आयेंगे आपको -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ई-मेल के जरिये जुड़िये हमसे