NCC : तरुण देशभक्तों की फ़ौज

 

दिल्ली स्थित जनरल करियप्पा ग्राउंड में वार्षिक राष्ट्रीय कैडेट कोर यानी एनसीसी रैली 2021 का आयोजन आज किया जाना प्रस्तावित है । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रैली को संबोधित करेंगे। पीएम मोदी का सुनने के लिए एनसीसी कैडेट्स खासे उत्साहित हैं। साथ में उत्साह है गणतंत्र दिवस परेड के बाद आयोजित होने वाली एनसीसी रैली का। साल 1948 में केवल बीस हजार कैडेट्स के साथ शुरू हुई NCC के आज पूरे देश में करीब 14 लाख से ज्यादा कैडेट्स हैं। प्राकृतिक आपदा हो या स्वच्छ भारत अभियान और पल्स पोलियों जैसी पहल या फिर कोई अन्‍य आपदा आम लोगों की सहायता के लिए एनसीसी कैडेट्स ने हर बार अपने हाथ बढ़ाये हैं। इसका जीता जागता रूप कोविड-19 महामारी के दौरान देखने को मिला, जब कोरोना वॉरियर बनकर एनसीसी कैडेट्स ने लोगों तक मदद पहुंचाई।

NCC का इतिहास

राष्ट्रीय कैडेट कोर यानी NCC सबसे पहले जर्मनी में 1666 में शुरू किया गया था। भारत में राष्ट्रीय कैडेट कोर की स्थापना 16 अप्रैल 1948 में की गई थी। लेकिन इसके तार यूनिवर्सिटी कोर से जुड़ी हैं, जिसे इंडियन डिफ़ेस एक्ट 1917 के तहत बनाया गया था। NCC को सैनिकों की सहायता के उद्देश्य से बनाया गया था। इससे पहले साल 1920 में जब इंडियन टेरिटोरियल एक्ट पारित किया गया तो यूनिवर्सिटी कोर की जगह यूनिवर्सिटी ट्रेनिंग कोर (UTC) ने ले ली। जिसका उद्देश्य था कि UTC का दर्ज़ा बढ़ा दिया जाए और इसे युवाओं के लिए और आकर्षित बनाया जाए। लेकिन युद्ध और आपात काल के लिए इन्हें तैयार करने के लिए एक खास ट्रेनिंग की आवश्यकता के चलते एनसीसी की स्‍थापना की गई। कर्नल गोपाल गुरुनाथ बेवूर को 31 मार्च 1948 को राष्ट्रीय कैडेट कोर का पहला निदेशक बनाया गया। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है।

महिला कैडेट्स

साल 1948 में एनसीसी गर्ल्स डिविज़न बनाया गया ताकि स्कूल-कॉलेज जाने वाली लड़कियों को बराबरी का मौका दिया जा सके। साल 1950 में एयर विंग बना और 1952 में नेवल विंग। स्कूल-कॉलेज स्तर पर लड़कों की तरह लड़कियां भी एनसीसी ज्वाइन करने के लिए स्वतंत्र हैं। उन्हें भी लड़कों की तरह ट्रेनिंग दी जाती है।

गर्ल्स कैडेट्स की भागीदारी 33% हुई

हाल ही में एनसीसी का विस्तार किया गया है, जिसके तहत एनसीसी में गर्ल्स कैडेट्स की भागीदारी 28 फीसदी से बढ़कर 33 फीसदी हो गई है। इस बात की घोषणा स्‍वयं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने की। उन्‍होंने कहा कि एनसीसी के माध्यम से महिला सशक्तिकरण की दिशा में हम आगे बढ़ रहे हैं। उन्‍होंने यह भी बताया कि एनसीसी के एक लाख कैडेट विस्तार योजना के तहत फॉरवर्ड और तटीय क्षेत्रों के 1104 स्कूल और कॉलेजों को एनसीसी आवंटित की गई है।

एनसीसी की पहचान

एनसीस में शामिल कैडेट्स के लिए खाकी वर्दी ड्रेस होती है। ‘एकता और अनुशासन’ कोर का आदर्श वाक्य है। NCC के झंडे में तीनों सेनाओं को प्रदर्शित करते तीन रंग होते हैं। लाल आर्मी के लिए, गहरा नीला नेवी के लिए और हल्का नीला वायुसेना के लिए। भारत में राष्ट्रीय कैडेट कोर के माध्यम से विद्यालयों, महाविद्यालयों और पूरे भारत में विश्वविद्यालयों के कैडेटों को छोटे-युद्ध अभ्यास और परेड में बुनियादी सैन्य प्रशिक्षण, खेल-कूद प्रदान करता है।

युद्ध में जवानों के साथ लिया था हिस्सा

1965 और 1971 के भारत पाकिस्तान युद्ध के दौरान एनसीसी कैडेट सुरक्षा की दूसरी कतार के रूप में काम किया। उन्होंने सामने से हथियार और गोला बारूद की आपूर्ति, आयुध कारखानों की सहायता के लिए शिविर का आयोजन किया और भी दुश्मन पैराट्रूपर्स पर कब्जा करने के लिए गश्ती दल के रूप में काम किया। इसके अलावा एनसीसी के कैडट्स का सेना में शामिल होना बदस्तूर जारी है। एनसीसी कैडेट्स को सेना में प्रवेश के समय विशेष वरियता भी दी जाती है। NCC युवाओं में चरित्र, मिल-जुलकर काम करने की क्षमता का विकास करती है। इसके अलावा NCC युवाओं में नेतृत्व की क्षमता और सेवा की भावना भी विकसित करता है। यह युवाओं को सैन्य प्रशिक्षण देकर पहले से तैयार एक रिज़र्व बल बनाता है, जिसका उपयोग राष्ट्रीय आपातकाल के समय सशस्त्र बल के रूप में किया जा सके।

कब ज्वाइन कर सकते हैं एनसीसी

सर्वांगिण विकास और अनुशासन के लिए एनसीसी की शुरूआत स्कूल या कॉलेज लेवल पर होती है। एनसीसी में ट्रैकिंग, माउंटेनिंग, साइकल एक्सपेडिशन जैसे रोमांचक खेल तो होते ही हैं, साथ ही व्यक्तित्व विकास के लिए रचानात्मक कार्य, वाद-विवाद प्रतिगयोगिता, भाषण प्रतियोगिता जैसी गतिविधियां भी कराई जाती है। स्कूल-कॉलेज स्तर पर कैडेट्स के लिए जिले या दूसरे जिले में कैंप लगाए जाते हैं। जहां उन्हें अलग-अलग तरह की ट्रेनिंग और खेल-खूद कराए जाते हैं।

पोस्ट अंश और समाचार :प्रसार भारती समाचार सेवा से साभार लिया गया है

ताज़ा पोस्ट

दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों का जिम्मेदार : अरविंद केजरीवाल

कोई व्यक्ति देश और मोदी विरोध में इतना अंधा कैसे हो सकता है कि अपने साथियों के साथ मिलकर पूरी दुनिया के सामने ,...

पौधों की सिंचाई -बागवानी की एक खूबसूरत कला – बागवानी मन्त्र

  बागवानी के अपने पिछले 15 वर्षों से अधिक के अनुभव को साझा करते हुए मैंने पिछली पोस्टों में बताया था कि , बागवानी में...

वेंटिलेटर पर रखी चिकित्सा व्यवस्था

दशकों बाद कोई बहुत बड़ी विपत्ति या आपदा कहूँ विकराल रूप लेकर देश दुनिया और समाज को लीलने को खड़ी हो गई है ....

बीमारी नहीं अव्यवस्था और बदहाली डरा रही है

  अभी बस कुछ दिनों पहले ही ऐसा लगने लगा था मानो , भारत इस कोरोना महामारी के चँगुल से अपेक्षित और अनुमानित नुकसान से...

झूठे दिलासे वाली : मौत की दहलीज़ पर खड़ी दिल्ली

सुबह साढ़े आठ बजे ही फोन बजने लगता है। इन दिनों हालात और हाल ऐसे हैं क़ी , असमय और अकारण ही किसी का...

यह भी पसंद आयेंगे आपको -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ई-मेल के जरिये जुड़िये हमसे