इस हिसाब से मकबूल फ़िदा हुसैन के लिए क्या सजा मुकर्रर की जानी चाहिए थी ????

 

तन से जुदा , मन से जुदा , बस एक इसी में तो बचा है खुदा।

कुछ यही मंसूबा और अपने माथे पर नारा ए तकबीर ,अपनी खंज़रों ,तलवारों पर लिखकर घूमने वालों से सिर्फ इतना पूछा जाना चाहिए कि यदि _______की शान में कुछ कहना क्या सोचना तक गुनाहे अजीम है और उससे क़यामत आ जाती है तो इस हिसाब से उस कमज़र्फ मकबूल के लिए क्या सज़ा तय की जानी चाहिए थी जो अपनी दो कौड़ी की फूहड़ता को अपनी कुत्सित सोच में रंग कर हिन्दू देवियों की अपमानजनक तस्वीरें उकेरी थीं।

अभी दो महीने पूर्व ही दर्जन भर सिरफिरे बदजुबान कर हिन्दू देवी देवताओं , परम्पराओं ,मान्यताओं का उपहास उड़ा कर अपनी रोजी रोटी कमाने वाले भिखमंगे अदालत से “आजादी -आजादी ” कहते एड़ियाँ रगड़ रहे थे -किसी ने मंदिर में कुकर्म दिखाने की साजिश , तो कोई देवी देवताओं को ही निशाने पर लेकर फूहड़ता कर रहा है , अपमानजनक भाषा कर शब्दों का प्रयोग कर रहा है फिर चाहे वो पी के में आमिर खान हो या वो दो टके का अली अब्बास।

ये जोश उस वटक क्यों नहीं उबाल मारता है तुम्हारा भई ओवैसी  , अमानतुल्ला जब कबीलाई वहशी भीड़ बन कर किसी मंदिर कसबे , मोहल्ले पर उसी तरह टूट पड़ते हो जैसे गिद्ध के झुण्ड लाशों पर मंडरा कर टूट पड़ते हैं।  पहले से ही आने वाली नस्लों को दूध के साथ मज़्हबाई उन्माद का रक्तपान कराते हुए बकौल तुम्हारे ही पूरी दुनिया में 56 देश हैं , मगर नाजुक इतने कि ऊँगली दिखाने से मुरझाने का ख़तरा हो जाता है।  अपना मन करे तो सड़क पर आ लोटो और न मन करे तो नकाब बुर्का और जाने कितने परदों में ढका छिपा कर रखो मगर दूसरों के , देवी देवताओं , मंदिरों , मूर्तियों और पुजारियों सबको “तन से जुदा” , माशाअल्लाह क्या तरकीब है , क्यों ???

दुनिया सीखते समझते सभ्य हो गई कम से कम वहशी जहालत से एक दूसरे को ही मारने काटने वाली कबीलाई मानसिकता से बाहर निकल गई मगर तुम दिनोंदिन बदतर होते चले गए।  जाने कितने सालों , दशकों , शताब्दियों पहले शुरू हुआ ये वहशी कत्ले आम का ख़त्म होना , या कम होना तो दूर अब तो ये वहशत दीवानगी की हद तक जा पहुँचीं है।

ताज़ा पोस्ट

एक देश एक कानून से ही बंद होगा ये सब तमाशा

थोड़े थोड़े दिनों के अंतराल पर , जानबूझकर किसी भी बात बेबात को जबरन तूल देकर मुद्दा बनाना और फिर उसकी आड़ में देश...

भाजपा को साम्प्रदायिक दिखाते दिखाते खुद ही कट्टरपंथी हो गया पूरा विपक्ष

यही होता है जब झूठ पर तरह तरह का लेप चढ़ाकर उसे सच बताने /दिखाने और साबित करने की कोशिश की जाती है और...

मुस्लिमों का मसीहा बनने के लिए क्यों जरूरी है :हिन्दुओं के विरूद्ध ज़हर उगलना

सड़क पर चलता हुआ एक अदना सा कोई भी ; एक पुलिस अधिकारी को उसका चालान किए जाने को लेकर सार्वजनिक रूप से धमकाते...

ममता से लेकर चन्नी तक : मोदी विरोध में मुख्यमंत्रियों द्वारा की जा रही बदगुमानी/दुर्व्यवहार -अनुचित परिपाटी 

अब से कुछ ही महीनों पहले प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी जी की और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की एक आधिकारिक मुलाकात चर्चा का...

20 करोड़ हैं :हम भी लड़ेंगे : फिर छलका नसीरुद्दीन शाह का मुग़ल प्रेम

फिल्म जगत में पिछले कई दशकों से सक्रिय और अपने मज़हबी मुगलाई एजेंडे को चुपचाप चलाने वाले तमाम लोग इन दिनों नकली बौद्धकता और...

यह भी पसंद आयेंगे आपको -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ई-मेल के जरिये जुड़िये हमसे