एक प्याली चाय

एक प्याली चाय

एक प्याली चाय,
अक्सर मेरे,
भोर के सपनों को तोड़,
मेरी अर्धांगिनी,
के स्नेहिल यथार्थ की,
अनुभूति कराती है॥

 एक प्याली चाय,
अक्सर,बचाती है,
मेरा मान, जब,
असमय और अचानक,
आ जाता है,घर कोई॥

एक प्याली चाय,
अक्सर,बन जाती है,
बहाना,हम कुछ ,
दोस्तों के,मिल बैठ,
गप्पें हांकने का..

एक प्याली चाय,
अक्सर ,देती है,साथ मेरा,
रेलगाडी के,बर्थ पर भी..

एक प्याली चाय,
अक्सर मुझे,खींच ले जाती है,
राधे की,छोटी दूकान पर,
जहाँ मिल जाता है,
एक अखबार भी पढने को॥

एक प्याली चाय,
कितना अलग अलग,
स्वाद देती है,सर्दी में,
गरमी में,और रिमझिम ,
बरसात में भी॥

एक प्याली चाय,
को थामा हुआ,है मैंने,
या की,उसने ही ,
थाम रखी है,
मेरी जिंदगी,
मैं अक्सर सोचता हूँ ……

अक्सर चाय पीते हुए ये पंक्तियां मेरे मन में कौंधती हैं , पहले भी शायद कही थी ……आज फ़िर चाय पी …तो फ़िर कहने का मन किया …………और आपका …??

ताज़ा पोस्ट

ये भवानी को सिर्फ पूजने का वक्त नहीं , ये स्वयं भवानी दुर्गा काली हो जाने का समय है

 एक बेटी के पिता के रूप में आज कुछ वो बातें साझा कर रहा हूँ आप सबसे और खासकर मेरी बेटियों जैसे देश और...

ख़त्म हो जाएंगे अदालतों में लंबित साढ़े तीन करोड़ मुक़दमे

देश भर की अदालतों में लंबित लगभग साढ़े तीन करोड़ मुकदमे देश की सारी  प्रशासनिक व्यवस्थाओं के अतिरिक्त आर्थिक जगत को भी बहुत बड़े...

बागवानी के लिए जरूरी है मिटटी की पहचान

 बागवानी के लिए मिट्टी ,कैसी हो ,उसे तैयार कैसे किया जाए आदि के बारे में भी कुछ बताऊँ | कुछ भी साझा करने से...

केरल और पश्चिम बंगाल :तैयार होते दो इस्लामिक राज्य

किसी ने बहुत पहले ही कहा था कि ,'देश को नहीं है ख़तरा उतना ,विदेशी हथियारों से देश को है असली खतरा तो देश के...

हिंदी हैं हम -हिंदी ,हिन्दू ,हिन्दुस्तानी

अंग्रेजीमय दिल्ली की अदालत में ,यूँ तो मैं अपने काम , जुनून और सबसे अधिक अपने बेबाक तेवर कारण (ठेठ बिहारी , सबपे भारी...

यह भी पसंद आयेंगे आपको -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ई-मेल के जरिये जुड़िये हमसे