एक देश एक कानून से ही बंद होगा ये सब तमाशा

थोड़े थोड़े दिनों के अंतराल पर , जानबूझकर किसी भी बात बेबात को जबरन तूल देकर मुद्दा बनाना और फिर उसकी आड़ में देश , समाज , कानून , सरकार सबको बदनाम करने की साजिश रचना – बस यही सब बचा रह गया है कुछ मुट्ठीभर ,हताश और निराश लोगों के गुट के पास .

अभी थोड़े समय पहले , तीन तलाक पर , फिर धारा 370 पर , फिर आए नागरिकता संशोधन कानून के विषय पर , फिर कृषि कानून सुधार कानून पर , फिर सार्वजनिक रूप से सड़कों और अन्य स्थलों पर जबरन नमाज अता करने  और अब अचानक ने स्कूल कालेज में जबरन हिजाब पहनने की ज़िद और उसे रोके जाने पर किया जा रहा स्यापा और हंगामा . 

पूरी दुनिया , कोरोना महामारी से उबरने के बाद , अपनी धराशाई हो गई अर्थव्यवस्था , चरमराई अर्थव्यवस्था आदि को दुरुस्त करने में लगे हैं लेकिन यहां भारत में कुछ मोमिन और ख्वातीन -अल्ला हु अकबर करते हुए अपना जेहाद जारी रखे हुए हैं . उनकी खुशकिस्मती ये कि , भारतीय जनता पार्टी , केंद्र राज्य सरकार , मोदी योगी और सबसे अधिक हिंदुओं से द्वेष पाले हुआ विपक्ष भी ऐसे ही मौकों की तलाश में -फट्ट से उनके साथ मिल कर टूलकिट का हिस्सा बनकर वही सब कर रहा है .

इनकी बदकिस्मती ये है कि , अब इनकी ऐसी तमाम कोशिश भी , इस बदले हुए भारत के नए तेवर , नए संकल्प , नई शक्ति के आगे बार बार टूट कर हार रही हैं . भारत का बहुसंख्यक समाज अब ये निर्णय कर चुका है जिसमे यही तय किया जा रहा है कि – अब सिर्फ और सिर्फ राष्ट्रहित , सनातन हित के लिए संकल्पित पार्टी और लोगों के साथ ही चलना है .

असल में बार बार , अलग अलग बहानों से देश और व्यवस्था को अस्थिर करने के तमाम अवसरों को सिरे से समाप्त करने का एकमात्र सही और समुचित उपाय है – एक देश एक संविधान और एक कानून . देश के सभी नागरिकों पर सिर्फ और सिर्फ एक ही कानून लागू किया जाना चाहिए और किसी भी सूरत में कैसा भी कोई भी संस्था या कानून इससे अलग और इससे ऊपर नहीं रखा जाना चाहिए . 

ताज़ा पोस्ट

एक देश एक कानून से ही बंद होगा ये सब तमाशा

थोड़े थोड़े दिनों के अंतराल पर , जानबूझकर किसी भी बात बेबात को जबरन तूल देकर मुद्दा बनाना और फिर उसकी आड़ में देश...

भाजपा को साम्प्रदायिक दिखाते दिखाते खुद ही कट्टरपंथी हो गया पूरा विपक्ष

यही होता है जब झूठ पर तरह तरह का लेप चढ़ाकर उसे सच बताने /दिखाने और साबित करने की कोशिश की जाती है और...

मुस्लिमों का मसीहा बनने के लिए क्यों जरूरी है :हिन्दुओं के विरूद्ध ज़हर उगलना

सड़क पर चलता हुआ एक अदना सा कोई भी ; एक पुलिस अधिकारी को उसका चालान किए जाने को लेकर सार्वजनिक रूप से धमकाते...

ममता से लेकर चन्नी तक : मोदी विरोध में मुख्यमंत्रियों द्वारा की जा रही बदगुमानी/दुर्व्यवहार -अनुचित परिपाटी 

अब से कुछ ही महीनों पहले प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी जी की और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की एक आधिकारिक मुलाकात चर्चा का...

20 करोड़ हैं :हम भी लड़ेंगे : फिर छलका नसीरुद्दीन शाह का मुग़ल प्रेम

फिल्म जगत में पिछले कई दशकों से सक्रिय और अपने मज़हबी मुगलाई एजेंडे को चुपचाप चलाने वाले तमाम लोग इन दिनों नकली बौद्धकता और...

यह भी पसंद आयेंगे आपको -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ई-मेल के जरिये जुड़िये हमसे