शंकर भगवान ने खुद बचाई हजारों लोगों की जान

 

यूँ तो इस सृष्टि का एक एक कण और एक एक क्षण खुद आदि देव महादेव शिव का ही है और शिव में ही है | शिव पालक भी है और संहारक भी | फिर जब महीना ही सावन का चल रहा हो तो फिर धरती अम्बर , पाताल समुद्र सब कुछ शिव ही शिव है | कहते हैं शिव जिसे बचाने को उद्धत हों उसे काल भी नहीं छू सकता | इसका एक उदाहरण तो केदारनाथ में हुई भीषण त्रासदी थी जिसके बीच में फंसे लोग भी कैसे शिव कृपा से मौत के मुंह में जाकर बाहर निकल आए थे |

ऐसी ही एक घटना हाल ही में हरिद्वार ,हर की पौड़ी में घटी | इन दिनों सावन चल रहे हैं जब काँवड़ यात्रा अपने चरम पर होती है और हज़ारों लाखों की भीड़ हरिद्वार के चप्पे चप्पे पर। हर हर महादेव और बोल बम का जयकारा लगा रही होती है | लेकिन इस बार कोरोना महामारी के कारण इस कांवड़ यात्रा पर रोक लगी हुई है |

 

कल गिरी आकाशीय बिजली से ध्वस्त हुआ हरिद्वार का पौड़ी क्षेत्र

कल हरिद्वार में आकाशीय बिजली गिरी और ठीक हर की पौड़ी का बहुत सारा क्षेत्र पूरी तरह से ध्वस्त और तबाह हो गया |

कल्पना करिये यदि , आज ये काँवड़ यात्रा सुचारु रूप से पहले की तरह चल रही होती तो जाने कितने ही भोले के भक्तों की जान चली जाती | प्रभु इच्छा प्रभु ही जानें और वो कहते हैं न कि हर बात में कुछ न कुछ अच्छा होता ही है ऐसे में स्थानीय पुजारी सन्यासी यही कह रहे हैं की शिव को सबको बचाना था इसलिए ये सब तय था पहले ही | हर हर महादेव |

ताज़ा पोस्ट

ये भवानी को सिर्फ पूजने का वक्त नहीं , ये स्वयं भवानी दुर्गा काली हो जाने का समय है

 एक बेटी के पिता के रूप में आज कुछ वो बातें साझा कर रहा हूँ आप सबसे और खासकर मेरी बेटियों जैसे देश और...

ख़त्म हो जाएंगे अदालतों में लंबित साढ़े तीन करोड़ मुक़दमे

देश भर की अदालतों में लंबित लगभग साढ़े तीन करोड़ मुकदमे देश की सारी  प्रशासनिक व्यवस्थाओं के अतिरिक्त आर्थिक जगत को भी बहुत बड़े...

बागवानी के लिए जरूरी है मिटटी की पहचान

 बागवानी के लिए मिट्टी ,कैसी हो ,उसे तैयार कैसे किया जाए आदि के बारे में भी कुछ बताऊँ | कुछ भी साझा करने से...

केरल और पश्चिम बंगाल :तैयार होते दो इस्लामिक राज्य

किसी ने बहुत पहले ही कहा था कि ,'देश को नहीं है ख़तरा उतना ,विदेशी हथियारों से देश को है असली खतरा तो देश के...

हिंदी हैं हम -हिंदी ,हिन्दू ,हिन्दुस्तानी

अंग्रेजीमय दिल्ली की अदालत में ,यूँ तो मैं अपने काम , जुनून और सबसे अधिक अपने बेबाक तेवर कारण (ठेठ बिहारी , सबपे भारी...

यह भी पसंद आयेंगे आपको -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ई-मेल के जरिये जुड़िये हमसे