क्यों ठीक है न ???

 

default featured image for jha ji kahin

वो संसद पर ,मुंबई ,दिल्ली और जाने कितने शहरों में आतंक और मौत का नंगा नाच करते रहे ;
तुमने कहा सब थोड़ी हैं उनमें शामिल ,सबको क्यों निशाना बनाया जा रहा है ,हमने कहा ठीक है

वो सेना पर ,पुलिस पर पत्थर बरसाते रहे ,
तुमने कहा सब थोड़ी हैं उनमें शामिल ,सबको क्यों निशाना बनाया जा रहा है ,हमने कहा ठीक है

वो विश्वविद्यालयों में भारत के टुकड़े करने के मंसूबे के साथ जैसे करते रहे ;
तुमने कहा सब थोड़ी हैं उनमें शामिल ,सबको क्यों निशाना बनाया जा रहा है ,हमने कहा ठीक है

वो बार बार हिन्दू धर्म ,मान्यताओं ,देवताओं का अपमान करते रहे ;
तुमने कहा सब थोड़ी हैं उनमें शामिल ,सबको क्यों निशाना बनाया जा रहा है ,हमने कहा ठीक है

वो बार बार तिरंगे का ,वन्दे मातरम् का ,भारत माता की जय कहने का तिरस्कार करते रहे
तुमने कहा सब थोड़ी हैं उनमें शामिल ,सबको क्यों निशाना बनाया जा रहा है ,हमने कहा ठीक है

वो रेल बस घर दफ्तर फूँकते रहे,सरकारी निजी सब कुछ जलाते रहे ;
तुमने कहा सब थोड़ी हैं उनमें शामिल ,सबको क्यों निशाना बनाया जा रहा है ,हमने कहा ठीक है

वो सड़कों को घेर कर उनपर महीनों बैठ कर कानून पुलिस को ठेंगा दिखते रहे ;
तुमने कहा सब थोड़ी हैं उनमें शामिल ,सबको क्यों निशाना बनाया जा रहा है ,हमने कहा ठीक है

आज वो , जानबूझ कर बीमारी के बीज लिए सबके बीच जहर बो रहे हैं ;
तुमने कहा सब थोड़ी हैं उनमें शामिल ,सबको क्यों निशाना बनाया जा रहा है ,हमने कहा ठीक है

वो डाक्टरों ,नर्सों के सामने नंगे होकर अपनी तालीम दिखाते रहे ;
तुमने कहा सब थोड़ी हैं उनमें शामिल ,सबको क्यों निशाना बनाया जा रहा है ,हमने कहा ठीक है

तुमने कहा बार बार कहा हर बार कहा ,हर मुसलमान आतंकी नहीं होता ;
तुमने कहा सब थोड़ी हैं उनमें शामिल ,सबको क्यों निशाना बनाया जा रहा है ,हमने कहा ठीक है

तुमने कहा ,हर मुसलमान राष्ट्रदोही नहीं होता ;
तुमने कहा सब थोड़ी हैं उनमें शामिल ,सबको क्यों निशाना बनाया जा रहा है ,हमने कहा ठीक है

तुम सीधे सीधे ये क्यों नहीं कह देते की हर मुसलमान इंसान नहीं होता ; हम कह देंगे ठीक है

नहीं अब हम कुछ नहीं कहेंगे अब हम ठीक करेंगे और फिर कहेंगे कि ठीक है

क्यों ठीक है न ???

ताज़ा पोस्ट

Phone pay के बाद अब “डाक पे ” : सुदूर ग्रामीण क्षेत्र में डिजिटल भुगतान की सुविधा

हाल ही में डाक विभाग और इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) ने ‘डाक पे’ नामक एक नया डिजिटल पेमेंट्स एप लॉन्च किया। बता दें...

दिल्ली , महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल : 3 अकर्मठ , अकर्मण्य सरकारों से त्रस्त राज्य

कहते हैं अनाड़ी का खेल राम , खेल का सत्यानाश। ठीक यही हाल आज देश के तीन प्रमुख राज्यों , दिल्ली महाराष्ट्र और पश्चिम...

छूटते-जुड़ते सोशल नेटवर्किंग साइट्स :भास्सप जी की विदाई का समय

  पिछले कुछ दिनों से इंटरनेट संसार में लोगबाग व्हाट्सएप के विकल्प के रूप में signal और telegaram को डाउनलोड कर रहे हैं। असल में...

विश्व में बढ़ती हिंदी की धमक (विश्व हिंदी दिवस )

आज विश्व हिंदी दिवस है। प्रेम, संवाद और मैत्री की भाषा हिंदी के वैश्विक स्तर पर प्रचार-प्रसार के उद्देश्य से यह दिवस मनाया जाता...

पशुओं की स्मगलिंग और हवाला के जरिये 1000 करोड़ का मालिक बन बैठा इनामुल हक़ : 24 दिसंबर तक CBI हिरासत में

सीमा सुरक्षा बल के एक अधिकारी के साथ मिलीभगत करके सीमा पार को गौधन एवं अन्य पशुओं की स्मगलिंग करने वाला और पशु स्मगलरों...

यह भी पसंद आयेंगे आपको -

4 COMMENTS

  1. बिल्कुल सही कहा। पहले ठीक करेंगे फिर पूछेंगे कि क्यों ठीक है न?

  2. हम तो कहते है पूछने की भी ज़रूरत नही की क्यों ठीक है की नही क्योंकि ठीक नही यह सटीक है ऐसा ही करने की ज़रूरत आन पड़ी है अब।

    • प्रतिक्रया के लिए आपका आभार और शुक्रिया पल्लवी जी। स्नेह बनाए रखियेगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ई-मेल के जरिये जुड़िये हमसे