आसान है सब्जियों की बागवानी : बागवानीमन्त्र

बागवानी अक्सर फूल या बिना फूल के खूबसूरत पौधों के आकर्षण में शुरू की जाती है मगर फिर कब आपको इन फूल पौधों और गमलों की खाली पड़ी मिट्टी से एक स्नेह हो जाता है , एक रिश्ता जुड़ जाता है , ये आपको पता भी नहीं चलता .

फूलों के बाद अगली कोशिश , आम तौर पर फल उगाने की होती है या फिर साग सब्जी . बागवानी के अपने अनुभव के आधार पर कहूँ तो साग सब्जी उगाना बागवानी के कुछ सरलतम पाठों में से एक है .

अक्सर बागवानी में हाथ आजमाने वाले मित्रों को मेरा यही कहना होता है कि , जब खुद बागवानी शुरू करने का मन करे , मिट्टी में हाथ और खुरपी चलाने की हसरत हिलोरें मारने लगे तो , कुछ मत करिए , रसोई घर में घुसिए .

जितने भी जो भी साबुत मसाले , धनिया , लहसुन , मेथी , मिर्च ,और जाने क्या क्या सब कुछ एक एक चुटकी ले आइए और शुरू हो जाइये .

फल और फूल की तरह इनमें भी , ये बात कि गमला कैसा होना चाहिए ये इस बात पर निर्भर करता है कि , लगाया या बोया क्या जाना है . धनिया पालक मेथी चौलाई पुदीना आदि तमाम साग पात के लिए गमले चौड़े और मिर्च टमाटर प्याज लहसन आलू बैंगन के लिए गमले गहरे हों तो बहुत बेहतर रहता है .

सब्जियों की बागवानी की एक खूबसूरत बात ये है कि आप सालों भर कोई न कोई सब्जी लगाई जा सकती है और बहुत सारी सब्जियाँ तो वर्ष भर उगाई खाई जा सकती हैं .बस सावधानी ये रखनी है कि मौसम के अनुकूल और अनुसार ही सब्जियों की बागवानी की जानी चाहिए .

क्या एक छोटे परिवार के उपयोग लायक सब्जियाँ उगाई जा सकती हैं ??? -हाँ , बहुत आराम से . यदि नियोजित तरीके से बागवानी की जाए तो बहुत आसानी से ये किया जा सकता है . हाँ धूप , सब्जियों की खेती का एक महत्वपूर्ण और जरूरी तत्व है .मगर कम धूप में भी बहुत कुछ उगाया लगाया जा सकता है .

बीज , मिट्टी , खाद , गमले और उगाने , लगाने के सारे उपाय भी , सब कुछ यहीं अंतर्जाल पर सहज ही उपलब्ध है .ये समझिए की धान गेहूँ को छोड़कर सब कुछ उगाया लगाया जा सकता है और ये कोई भी कर सकता है .

ताज़ा पोस्ट

एक देश एक कानून से ही बंद होगा ये सब तमाशा

थोड़े थोड़े दिनों के अंतराल पर , जानबूझकर किसी भी बात बेबात को जबरन तूल देकर मुद्दा बनाना और फिर उसकी आड़ में देश...

भाजपा को साम्प्रदायिक दिखाते दिखाते खुद ही कट्टरपंथी हो गया पूरा विपक्ष

यही होता है जब झूठ पर तरह तरह का लेप चढ़ाकर उसे सच बताने /दिखाने और साबित करने की कोशिश की जाती है और...

मुस्लिमों का मसीहा बनने के लिए क्यों जरूरी है :हिन्दुओं के विरूद्ध ज़हर उगलना

सड़क पर चलता हुआ एक अदना सा कोई भी ; एक पुलिस अधिकारी को उसका चालान किए जाने को लेकर सार्वजनिक रूप से धमकाते...

ममता से लेकर चन्नी तक : मोदी विरोध में मुख्यमंत्रियों द्वारा की जा रही बदगुमानी/दुर्व्यवहार -अनुचित परिपाटी 

अब से कुछ ही महीनों पहले प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी जी की और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की एक आधिकारिक मुलाकात चर्चा का...

20 करोड़ हैं :हम भी लड़ेंगे : फिर छलका नसीरुद्दीन शाह का मुग़ल प्रेम

फिल्म जगत में पिछले कई दशकों से सक्रिय और अपने मज़हबी मुगलाई एजेंडे को चुपचाप चलाने वाले तमाम लोग इन दिनों नकली बौद्धकता और...

यह भी पसंद आयेंगे आपको -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ई-मेल के जरिये जुड़िये हमसे