Phone pay के बाद अब “डाक पे ” : सुदूर ग्रामीण क्षेत्र में डिजिटल भुगतान की सुविधा

हाल ही में डाक विभाग और इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) ने ‘डाक पे’ नामक एक नया डिजिटल पेमेंट्स एप लॉन्च किया। बता दें इस एप को डिजिटल वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने के लिए लॉन्च किया गया है। अच्छी बात ये है कि कुछ ही दिनों में डाक पे डिजिटल पेमेंट्स एप काफी लोकप्रिय हो चला है। अब हर दिन इस एप को हजारों लोग डाउनलोड कर वित्तीय लेनदेन कर रहे हैं।

इस तरह काम करता है ‘डाक पे’ एप

इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के सीईओ जे. वेंकट रामू बताते हैं “डोमेस्टिक मनी ट्रांसफर पहले कैश के जरिए ही होती थी जो कि अब डिजिटल माध्यम से हो रही है। यूं समझिए कि एक माइग्रेंट वर्कर शहर से अपनी फैमिली को पैसे भेज सकता है। गांव में हमारा डाक सेवक घर-घर जाकर अपने मोबाइल फोन के माध्यम से असिस्टेड एप के जरिए संबंधित व्यक्ति के परिवार के सदस्य को ये सुविधा मुहैया कराता है कि वह शहर से अपने फैमिली मैंबर द्वारा भेजे गए पैसों को उसके अकाउंट से आसानी से निकाल सकें।

‘डाक पे’ से सभी पोस्टल भुगतान आसान

जे. वेंकट रामू यह भी बताते हैं कि “हमारे मोबाइल एप में ये सुविधा दी गई है कि सभी पोस्टल स्कीम जैसे सुकन्या समृद्धि योजना, पोसा योजना या डाकघर आवर्ती जमा खाता (आरडी) स्कीम में आप सभी भुगतान आसानी से भर सकते हैं। इस एप के लॉन्च होने के पहले माह में ही 4 मिलियन के ऊपर लेनदेन हुआ। वहीं अभी तक ‘डाक पे’ एप को 2 लाख से अधिक बार डाउनलोड किया जा चुका है। इस गिनती में रोजाना इजाफा हो रहा है। जिस किसी का हमारे यहां अकाउंट है वो सभी लेनदेन के लिए हमारा मोबाइल एप इस्तेमाल कर रहे हैं।”

आगे जोड़ते हुए जे. वैंकेट रामू यह जानकारी देते हैं कि यूपीआई के जरिए ट्रासेंक्शन 40 हजार के ऊपर हो रहा है। रोजाना अगर हम इस आंकड़े की एक एवरेज की बात करें तो रोजाना हम ढाई लाख के ऊपर पैसों का लेनदेन देख रहे हैं। खास बात यह है कि डाकघर के अकाउंट के बिना भी आप ‘डाक पे’ एप का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए केवल आपको ‘डाक पे’ एप के जरिए अपने बैंक अकाउंट को जोड़ना होगा। साफ है कि डाक पे सेवा से डाकघरों के खाताधारकों को कई वित्तीय सेवाएं आसानी से मुहैया हुई हैं। खासतौर पर देश के दूर-दराज के ग्रामीण इलाकों में भी अब डाकघरों के खाताधारक डिजिटल बैंकिंग का फायदा उठाकर लेनदेन कर रहे हैं।

ऐसे खुलवा सकते हैं डाकघर में डिजिटल बचत खाता

जो व्यक्ति तकनीकी सुविधाओं का उपयोग करने में सक्षम हैं, वे इंडिया पोस्ट पेमेन्ट्स बैंक के आईपीपीबी मोबाइल ऐप के माध्यम से स्वयं के लिए डिजिटल बचत खाता खोल सकते हैं। यह ऐप आपके एंड्रॉइड फोन में प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोग जिनके पास आधार और पैन कार्ड है, यह खाता खोल सकते हैं। यह खाता घर बैठे ही खोला जा सकता है, अर्थात ऐसी बैंकिंग जो कहीं भी, कभी भी की जा सकती है।

खाते की प्रमुख विशेषताएं एवं लाभ

-आपकी सुविधानुसार बैंकिंग
-स्वयं द्वारा तत्काल खाता खोलने की सुविधा
-ब्याज दर- 2.75% प्रति वार्षिक दैनिक शेष राशि के आधार पर, ब्याज का भुगतान तिमाही रूप में
-मासिक औसत शेष राशि के रख-रखाव की कोई आवश्यकता नहीं
-शून्य शेष राशि के साथ भी खाता खोलने की सुविधा
-मुफ्त मासिक लेखा ई-विवरणी
-सरलता पूर्वक बिल भुगतान और रिचार्ज की सुविधा

डिजिटल बचत खाता खोलते समय ध्यान दिये जाने वाले महत्वपूर्ण तथ्य

-व्यक्ति की उम्र 18 वर्ष से अधिक होना
-12 माह के अंदर केवाईसी औपचारिकताओं को पूर्ण करना अनिवार्य
-केवाईसी औपचारिकताओं को किसी भी एक्सेस प्वाइंट से सम्पर्क करके या जीडीएस / डाकिया की सहायता से पूरा किया जा सकता है, जिसके बाद डिजिटल बचत खाता को नियमित बचत खाता में अपग्रेड कर दिया जाएगा।
-खाते में वार्षिक संचयी जमा हेतु अधिकतम रु. 2 लाख की अनुमति
-खाता खोलने के 12 माह के अंदर केवाईसी की औपचारिकता पूरी नही करने की स्थिति में खाता बंद किया जा सकता है।
-खाता खोलने के 12 माह के अंदर केवाईसी की औपचारिकता पूरी करने के बाद डिजिटल बचत खाते को पीओएसए (डाकघर बचत खाता) से जोड़ा जा सकता है।
-दूसरों से अलग हमारी मुख्य विशेषताएं
-ग्राहकों के लिए बहुभाषीय सेवाएं उपलब्ध
-न्यूनतम जमा राशि की कोई बाध्यता नहीं
-नाममात्र शुल्क

##समाचार सूत्र :हिन्दुस्तान समाचार

ताज़ा पोस्ट

देश छोड़ कर सालों पहले भाग गए अंग्रेज : हाय री किस्मत अब आ गए तैमूर और चंगेज़

विश्व की कुछ सबसे जरूरी महत्वर्पूण खगोलीय घटनाओं में से एक पिछले दिनों घटी जिसकी प्रतीक्षा कम से कम , खुद को नौटंकी बना...

तेल देखो और तेल की धार देखो

पेट्रोल 100 रुपए पार चला गया और ये कयामत से भी ज्यादा भयानक बात है . वो भी उस देश में जो कई बार...

कौआ उड़ , तोता उड़ : संसद में खेलता एक कबूतर बाज

संसद में हमेशा अपने अलग अलग करतबों से दुनिया को अपनी काबलियत का परिचय देने वाला गाँधी परिवार और कांग्रेस की सल्तनत के आखिरी...

आंदोलन के नाम पर अराजकता और हठधर्मिता : आखिर कब तक

चलिए ,सड़क ,शहर , लालकिले के बाद अब रेल की पटरियों पर आन्दोलनजीवी खेती किए जाने की मुनादी की गई है। संगठनों ने मिल...

हमरा भेलकम काहे नहीं हुआ जी : ई इंस्लट नहीं न चलेगा हो

लालू जी बब्बा तनिक बीमार क्या हुए , तेजस्वी भैया बस इत्तु से मार्जिन से चीप मुनिस्टर बनते बनते क्या रह गए , मने...

यह भी पसंद आयेंगे आपको -

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ई-मेल के जरिये जुड़िये हमसे